बहन का सहारा बना भाई

विकास छोटे से गांव का रहने वाला है. गाँव में बस उसके माँ बाप और बहन ही थे गांव में घोर गरीबी के चलते उसे 15 साल की ही उम्र अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ कर दिल्ली आना पड़ा. दिल्ली आते ही उसे एक कारखाने में नौकरी मिल गयी. उसने तुरंत ही अपनी लगन एवं इमानदारी का इनाम पाया और उसकी तरक्की सिर्फ एक साल में ही सुपरवाइजर में हो गयी.
अब उसे ज्यादा वेतन मिलने लगा था. अब वो अपने गाँव अपने माँ बाप और बहन से मुलाक़ात करने एवं उन्हें यहाँ लाने की सोच रहा था. तभी एक दिन उसके पास उसकी बहन का फोन आया कि उसके माँ बाप का एक्सिडेंट हो गया है. विकास जल्दी से अपने गाँव के लिए छुट्टी ले कर निकला. दिल्ली से गाँव जाने में उसे तीन दिन लग गए. मगर दुर्भाग्यवश वो ज्यों ही अपने घर पहुंचा उसके अगले दिन ही उसके माँ बाप की मृत्यु हो गयी. होनी को कौन टाल सकता था. माँ बाप के गुजरने के बाद विकास अपनी बहन को दिल्ली ले जाने की सोचने लगा क्यों कि यहाँ वो बिलकुल ही अकेली रहती और गाँव में कोई खेती- बाड़ी भी नही थी जिसके लिए उसकी बहन गाँव में रहती. पहले तो उसकी बहन अपने गाँव को छोड़ना नही चाहती थी मगर भाई के समझाने पर वो मान गयी और भाई के साथ दिल्ली चली आयी. उसकी बहन का नाम सीमा है. उसकी उम्र 20-21 साल की है. गाँव में राकेश नाम के लड़के से उसका चक्कर चला था। वो लड़का सीमा को चोद कर भाग गया था।
विकास ने दिल्ली में एक छोटा सा कमरा किराया पर ले रखा था. इसमें एक किचन और बाथरूम अटैच था. उसके जिस मकान में यह कमरा ले रखा था उसमे चारों तरफ इसी तरह के छोटे छोटे कमरे थे. वहां पर लगभग सभी बाहरी लोग ही किराए पर रहते थे. इसलिए किसी को किसी से मतलब नही था. विकास का कमरे में सिर्फ एक खिडकी और एक मुख्य दरवाजा था. सीमा पहली बार अपने गाँव से बाहर निकली थी. दिल्ली की भव्यता ने उसकी उसकी आँखे चुंधिया दी. जब विकास अपनी बहन सीमा को अपने कमरे में ले कर गया तो सीमा को वह छोटा सा कमरा भी आलिशान लग रहा था. क्यों कि वो आज तक किसी पक्के मकान में नही रही थी. वो गाँव में एक छोटे से झोपड़े में अपना जीवन यापन कर रही थी. उसे उसके भाई ने अपने कमरे के बारे में बताया . किचन और बाथरूम के बारे में बताया. यह भी बताया कि यहाँ गाँव कि तरह कोई नदी नहीं है कि जब मन करे जा कर पानी ले आये और काम करे. यहाँ पानी आने का टाइम रहता है. इसी में अपना काम कर लेना है. पहले दिन उसने अपनी बहन को बाहर ले जा कर खाना खिलाया. सीमा के लिए ये सचमुच अनोखा अनुभव था. वो हिंदी भाषा ना तो समझ पाती थी ना ही बोल पाती थी. वो परेशान थी . लेकिन ने उसे समझाया कि वो धीरे धीरे सब समझने लगेगी.
रात में जब सोने का समय आया तो दोनों एक ही बिस्तर पर सो गए. विकास का बिस्तर डबल था. इसलिए दोनों को सोने में परेशानी तो नही हुई. परन्तु विकास तो आदतानुसार किसी तरह सो गया लेकिन पहाड़ों पर रहने वाली सीमा को दिल्लीकी उमस भरी रात पसंद नही आ रही थी.वो रात भर करवट लेती रही. खैर! सुबह हुई. विकास अपने कारखाने जाने केलिए निकलने लगा. सीमा ने उसके लिए नाश्ता बना दिया. विकास ने सीमा को सभी जरुरी बातें समझा कर अपने कारखाने चला गया. सीमा ने दिन भर अपने कमरे की साफ़ सफाई की एवं कमरे को व्यवस्थित किया.शाम को जब विकास वापस आया तो अपना कमरा सजा हुआ पाया तो बहुत खुश हुआ. उसने सीमा को बाजार घुमाने लेगया और रात का खाना भी बाहर ही खाया.
सीमा अब धीरे धीरे अपने गाँव को भूलने लगी थी. अगले 3 -4 दिनों में सीमा अपने माँ बाप की यादों से बाहर निकलने लगीथी और अपने आप को दिल्ली के वातावरण अनुसार ढालने की कोशिश करने लगी. विकास सीमा पर धीरे धीरे हावी होने लगा था. विकास जो कहता सीमा उसे चुप चाप स्वीकारकरती थी. क्यों कि वो समझती थी कि अब उसका भरण – पोषण करने वाला सिर्फ उसका भाई ही है. विकास भी अब सीमा का अभिभावक के तरह व्यवहार करने लगा था.
विकास रात में सिर्फ अंडरवियर पहन कर सोता था. एक रात में उसकी नींद खुली तो वो देखता है कि उसकी बहन बैठी हुई.
विकास – क्या हुआ? सोती क्यों नहीं?
सीमा – इतनी गरमी है यहाँ.
विकास – तो इतने भारी भरकम कपडे क्यों पहन रखे हैं?
सीमा – मेरे पास तो यही कपडे हैं.
विकास – गाउन नहीं है क्या?
मेरी बहन सीमा का मस्त बदन
सीमा – नहीं.
विकास – तुमने पहले मुझे बताया क्यों नहीं? कल मै लेते आऊँगा.
अगले दिन विकास अपनी बहन के लिए एक बिलकूल पतली सी नाइटी खरीद कर लेते आया. ताकि रात में बहन को आराम मिल सके. जब उसने अपनी बहन को वो नाइटी दिखाया तोवो बड़े ही असमंजस में पड़ गयी. उसने आज तक कभी नाइटी नही पहनी थी. लेकिन जब विकास ने बताया कि दिल्ली में सभी औरतें नाइटी पहन कर ही सोती हैं तो उसने पूछा कि इसे पहनूं कैसे? विकास ने कहा – अन्दर के सभी कपडे खोल दो. और सिर्फ नाइटी पहनलो. बेचारी सीमा ने ऐसा ही किया. उसने किचन में जा कर अपनी पहले के सभी कपडे खोले और सिर्फ नाइटी पहनली. नाइटी काफी पतली थी. सीमा का जवान जिस्म अभी 20 साल का ही था. उस पर पहाड़ी औरत का जिस्म काफी गदराया हुआ था. गोरी और जवान सीमा के मुम्में बड़े बड़े थे. गाउन का गला इतना नीचे था कि सीमा के मुम्में का निप्पल सिर्फ बाहर आने से बच रहा था.
सीमा ने गाउन को पहन कर कमरे में आयी और विकास से कहा – देख तो,ठीक है?
विकास ने अपनी बहन को इतने पतले से नाइटी में देखा तो उसके होश उड़ गए. सीमा का सारा जिस्म का अंदाजा इस पतले से नाइटी से साफ़ साफ़ दिख रहा था. सीमा के आधे मुम्में तो बाहर दिख रहे थे. विकास ने तो कभी ये सोचा भी नही था कि उसकी बहन के मुम्में इतनी गोरे और बड़े होंगे. वो बोला – अच्छी है. अब तू यही पहन कर सोना. देखना गरमी नहीं लगेगी
उस रात सीमा सचमुच आराम से सोई. लेकिन विकास का दिमाग बहन के बदन पर टिक गया था. वो आधी रात तक अपनी बहन के बदन के बारे में सोचता रहा. वो अपनी बहन के बदन को और भी अधिक देखना चाहने लगा. उसने उठकर कमरे का लाईट जला दिया. उसकी बहन का गाउन उसकी जांघ तक चढ़ चुका था. जिस से सीमा की गोरी चिकनी जांघ विकास को दिख रही थी. विकास ने गौर से सीमा के मुम्में की तरफ देखा. उसने देखा कि सीमा के मुम्में का निप्पल भी साफ़ साफ़ पता चल रहा है. वो और भी अधिक पागल हो गया. उसका लंड अपनी बहन के बदन को देख कर खड़ा हो गया. वो बाथरूम जा कर वहां से अपनी सोई हुई बहन के बदन को देख देख कर मुठ मारने लगा. मुठ मारने पर उसे कुछ शान्ति मिली. और वापस कमरे में आ कर लाईट बंद कर के सो गया. सुबह उठा तो देखा सीमा फिर से अपने पुराने कपडे पहन कर घर का काम कर रही है. लेकिन उसके दिमाग में सीमा का बदन अभी भी घूम रहा था.
उसने कहा – सीमा, रात कैसी नींद आयी?
सीमा – कल बहुत ही अच्छी नींद आयी. गाउन पहनने से काफी आराम मिला.
विकास – लेकिन, मैंने तो सिर्फ एक ही गाउन लाया. आगे रात को तू क्या पहनेगी?
सीमा – वही पहन लुंगी.
विकास – नहीं, एक और लेता आऊँगा. कम से कम दो तो होने ही चाहिए.
सीमा – ठीक है, जैसी तेरी मर्जी.
विकास शाम कारखाने से घर लौटते समय बाज़ार गया और जान बुझ कर झीनी कपड़ों वाली गाउन वो भी बिना बांह वाली खरीद कर लेता आया.
उसने शाम में अपनी बहन को वो गाउन दिया और कहा आज रात में सोते समय यही पहन लेना.
रात में सोते समय जब सीमा ने वो गाउन पहना तो उसके अन्दर सिवाय पेंटी के कुछ भी नही पहना. उसका सारा बदन उस पारदर्शी गाउन से दिख रहा था. यहाँ तक कि उसकी पेंटी भी स्पष्ट रूप से दिख रहे थे. उसका गोरा गोरा मुम्मा और निप्पल तो पूरा ही दिख रहा था. उस गाउन को पहन कर वो विकास के सामने आयी. विकास अपनी बहन के बदन को एकटक देखता रहा.
सीमा- देख तो कैसा है, मुझे लगता है कि कुछ पतला कपडा है.
विकास – अरे सीमा, आजकल यही फैशन है. तू आराम से पहन.
अचानक उसकी नजारा अपनी बहन के कांख के बालों पर चली गयी. कटी हुई बांह वाली गाउन से सीमा के बगल वाले बाल बाहर निकल गए थे.
विकास ने आश्चर्य से कहा – सीमा , तू अपने कांख के बाल नही बनाती?
सीमा – नहीं आज तक नहीं बनाया.
विकास – अरे सीमा, आजकल ऐसे कोई नहीं रखता.
सीमा – मुझे तो बाल बनाना भी नही आता.
विकास – ला , मै बना देता हूँ.
सीमा आजकल विकास के किसी बात का विरोध नहीं करती थी. विकास ने अपना शेविग बॉक्स निकाला और रेजर निकाल कर ब्लेड लगा कर तैयार किया. उसने सीमा को कहा- अपने हाथ ऊपर कर. उसकी बहन ने अपनी हाथ को ऊपर किया और विकास ने अपनी बहन के कांख के बाल को साफ़ करने लगा. साफ़ करते समय वो जान बुझ कर काफी समय लगा रहा था. और हाथ से अपनी बहन के कांखको बार बार छूता था. इस बीच इसका लंड पानी पानी हो रहा था. वो तो अच्छा था कि उसने अन्दर अंडरवियर पहन रखा था. किसी तरह से विकास ने कांपते हाथों से अपनी बहन के कांख के बाल साफ़ किये.
बाल साफ़ करने के बाद सीमा तो सो गयी. मगर विकास को नींद ही नहीं आ रही थी. वो अपनी बहन की बगल में लेटे हुए अँधेरे में अपने अंडरवियर को खोल कर अपने लंड से खेल रहा था.अचानक उसे कब नींद आ गयी. उसे ख़याल भी नहीं रहा और उसका अंडरवियर खुला हुआ ही रह गया. सुबह होने पर रोज़ कि तरह सीमा पहले उठी तो वो अपने भाई को नंगा सोया हुआ देख कर चौक गयी. वो विकास के लंड को देखकर आश्चर्यचकित हो गयी. उसे पता नहीं था कि उसके भाई का लंड अब जवान हो गया है और उस पर बाल भी हो गए है. वो समझ गयी कि उसका भाई अब जवान हो गया है. उसके लंड का साइज़ देख कर भी वो आश्चर्यचकित थी क्यों कि उसने आज तक अपने यार राकेश के लंड के सिवा कोई और जवान लंड नहीं देखा था. राकेश का लंड इस से छोटा ही था. हालांकि उसके मन में कोई बुरा ख़याल नही आया और सोचा कि शायद रात में गरमी के मारे इसने अंडरवियर खोल दिया होगा. वो अभी सोच ही रही थी कि अचानक विकास की आँख खुल गयी और उसने अपने आप को अपनी बहन के सामने नंगा पाया. वो थोडा शर्मिंदा हुआ लेकिन आराम से तौलिया को लपेटा और कहा – सीमा, चाय बना दे न.
सीमा थोडा सा मुस्कुरा कर कहा – अभी बना देती हूँ.
विकास ने सोचा – चलो सीमा कम से कम नाराज तो नहीं हुई.
लेकिन उसकी हिम्मत थोड़ी बढ़ गयी. अगली ही रात को विकास ने सोने के समय जान बुझ कर अपना अंडरवियर पूरी तरह खोल दिया और एक हाथ लंड पर रख सो गया. सुबह सीमा उठी तो देखती है कि उसका भाई लंड पर हाथ रख कर सोया हुआ है. उसने विकास को कुछ नही कहा और वो कमरे को साफ़ सुथरा करने लगी. उसने विकास के लिए चाय बनाई और विकास को जगाया. विकास उठा तो अपने आप को नंगा पाया ,.
विकास थोडा झिझकते हुए कहा – पता नहीं रात में अंडरवियर कैसे खुल गया था.
सीमा – तो क्या हुआ? यहाँ कौन दुसरा है? मै क्या तुझे नंगा नहीं देखी हूँ? बहन के सामने इतनी शर्म कैसी?
विकास – वो तो मेरे बचपन में ना देखी हो. अब बात दूसरी है.
सीमा – पहले और अब में क्या फर्क है ? यही ना अब थोडा बड़ा हो गया है और थोडा बाल हो गया है , और क्या? अब मेरा भाई जवान हो गया है. लेकिन बहन के सामने शर्माने की जरुरत नहीं.
विकास समझ गया कि सीमा को उसके नंगे सोने पर कोई आपत्ति नहीं है.
अगले दिन रविवार है. शाम को विकास ने आधा किलो मांस लाया और सीमा ने उसे बनाया . दोनों ने ही बड़े ही प्रेम से मांस और भात खाया. सीमा अब पूरी तरह से विकास के अधीन हो चुकी थी.
सीमा अपने झीनी गाउन को पहन कर बिस्तर पर आ गयी. विकास वहां तौलिया लपेटे लेटा हुआ था. विकास ने अपनी जेब से सिगरेट निकाला और सीमा से माचिस लाने को कहा. सीमा ने चुप- चाप माचिस ला कर दे दिया. विकास ने सीमा के सामने ही सिगरेट सुलगाई और पीने लगा. सीमा ने कुछ नही कहा क्यों कि उसके विचार से सिगरेट पीने वाले लोग अमीर लोग होते हैं.
विकास – सीमा, तू सिगरेट पीयेगी?
सीमा – नहीं रे .
विकास – अरे पी ले, मांस भात खाने केबाद सिगरेट पीने से खाना जल्दी पचता है. कहते हुए अपनी सिगरेट सीमा को दे दिया. और खुद दुसरा सिगरेट जला दिया. सीमा ने सिगरेट से ज्यों ही कश लगाया वो खांसने लगी.
विकास ने कहा – आराम से सीमा. धीरे धीर पी. पहले सिर्फ मुह में ले. धुंआ अन्दर मत ले. सीमा ने वैसा ही किया. 3 -4 कश के बाद वो सिगरेट पीने जान गयी. आज वो बहुत खुश थी. उसका गोरा बदन उसके काले झीने गाउन से साफ़ झलक रहा था.
विकास – कैसा लग रहा है सीमा?
सीमा – कुछ पता नहीं चल रहा है. लेकिन धुआं छोड़ने में अच्छा लगता है.
विकास हंसने लगा. कुछ दिन यूँ ही और गुजर गए. सीमा अपने भाई से धीरे धीरे खुलने लगी थी. विकास भी अब रोज़ सुबह नंगा ही पाया जाता था. विकास ने अब शर्माना सचमुच छोड़ दिया था. विकास ने अपनी बहन को ब्यूटी पार्लर ले जा कर मेकअप और हेयर डाई भी करवा दिया था. वह उसके मेक-अप के लिए लिपस्टिक, पाउडर क्रीम आदि भी लेता आया था. सीमा दिन ब दिन और भी खुबसूरत होती जा रही थी.
एक रात विकास ने सिगरेट पीते हुए अपनी बहन को सिगरेट दिया. सीमा भी सिगरेट के काश ले रही थी. सीमा काला वाला झीने कपडे वाला पारदर्शी गाउन पहन रखा था. उसका गोरा बदन उसके काले झीने गाउन से साफ़ झलक रहा था.
विकास – सीमा एक बात कहूँ.
सीमा – हाँ बोल.
विकास – तू रोज़ गाउन पहन के क्यों सोती है? क्या तेरे पास ब्रा और पेंटी नहीं हैं?
सीमा – हाँ हैं, लेकिन तेरे सामने पहनने में शर्म आती है.
विकास – जब मै तेरे सामने नही शर्माता तो तू मेरे सामने क्यों शर्माती हो? इसमें शर्माने की क्या बात है? कभी कभी वो पहन कर भी सोना चाहिए. ताकि पुरे शरीर को हवा लग सके. दिल्ली में शरीर में हवा लगाना बहुत जरुरी है नहीं तो यहाँ के वातावरण में इतना अधिक प्रदुषण है कि बदन पर खुजली हो जायेंगे. देखती हो मै तो यूँ ही बिना कपडे के सो जाता हूँ.
सीमा – तो अभी पहन लूँ?
विकास – हाँ बिलकूल.
सीमा अन्दर गयी और अपना गाउन उतार कर एक पुरानी ब्रा पहन कर बाहर आ गयी. पुरानी पेंटी तो उसने पहले ही पहन रखी थी. सीमा को ब्रा और पेंटी में देख विकास का माथा खराब हो गया. वो कभी सोच भी नहीं सकता था कि उसकी बहन इतनी जवान है.उसका लंड खड़ा हो गया. उसके तौलिया में उसका लंड खड़ा हो रहा था लेकिन उसने अपने लंड को छुपाने की जरुरतनहीं समझी.
वो बोला – हाँ , अब थोड़ी हवा लगेगी. तेरे पास नयी ब्रा और पेंटी नहीं है?
सीमा – नहीं. यही है जो गाँव के हाट में मिलता था.
विकास – अच्छा कोई बात नहीं, मै कल ला दूंगा.
सीमा ने लाईट ऑफ कर दिया, लेकिन विकास की आँखों में नींद कहाँ? थोड़ी देर में जब उसे यकीं हो गया कि सीमा सो गयी है तो उसने अपना तौलिया निकाला और अपने खड़े लंड को मसलने लगा. सीमा के चूत और चूची को याद कर कर के उसने बिस्तर पर ही मुठ मार दिया. सारा माल उसके बदन पर एवं बिस्तर पर जा गिरा. एक बार मुठ मारने से भी विकास का जी शांत नहीं हुआ. 10 मिनट के बाद उसने फिर से मुठ मारा. इस बार मुठ मारनेके बाद उसे गहरी नींद आ गयी. और वो बेसुध हो कर सो गया.
सुबह होने पर सीमा ने देखा कि विकास रोज़ की तरह नंगा सोया है और आज उसके बदन एवं बिस्तर पर माल भी गिरा है. उसे ये पहचानने में देर नहीं हुई कि ये विकास का वीर्य है. वो समझ गयी कि रात में उसने मुठ मारा होगा. लेकिन वो जरा भी बुरा नहीं मानी. वो समझती है कि उस का भाई जवान है, एवं समझदार है इसलिए वो जो करता है वो सही है. वो कपडे पहन कर विकास के लिए चाय बनाने चली गयी. तभी विकास भी उठ गया. वो उठ कर बैठा ही था कि उसकी बहन चाय लेकर आ गयी. विकास अभी तक नंगा ही था.
सीमा ने कहा – देख तो, तुने ये क्या किया? जा कर बाथरूम में अपना बदन साफ़ कर ले. मै बिछावन साफ़ कर लुंगी.
विकास बिना कपडे पहने ही बाथरूम गया. और अपने बदन पर से अपना वीर्य धो पोछ कर वापस आया तब उसने तौलिया लपेटा. तब तक सीमा ने वीर्य लगे बिछवान को हटा कर नए बिछावन को बिछा दिया.
उस दिन रविवार था. विकास बाज़ार गया और अपनी बहन के लिए बिलकुल छोटी सी ब्रा और पेंटी खरीद कर लाया. ब्रा और पेंटी भी ऐसी कि सिर्फ नाम के कपडे थे उस पर. पूरी तरह जालीदार ब्रा और पेंटी लाया. शाम में उसने अपनी सीमा को वो ब्रा और पेंटी दिए और रात में उसे पहनने को बोला. रात को खाना खाने के बाद विकास ने सिगरेट सुलगाई और उधर उसकी बहन ने नयी ब्रा और पेंटी पहनी. उसे पहनना और ना पहनना दोनों बराबर था. क्यों कि उसके चूत और मुम्मों का पूरा दर्शन हो रहा था. लेकिन सीमा ने सोचा जब उसके भाई ने ये पहनने को कहा है तो उसे तो पहनना ही पड़ेगा. उसे भी अब विकास से कोई शर्म नही रह गयी थी. पेंटी तो इंतनी छोटी थी कि चूत के बाल बिलकुल बाहर थे. सिर्फ चूत एक जालीदार कपडे से किसी तरह ढकी हुई थी. ब्रा का भी वही हाल था. सिर्फ निप्पल को जालीदार कपडे ने कवर कियाहुआ था लेकिन जालीदार कपड़ा से सब कुछ दिख रहा था. उसे पहन कर वो विकास के सामने आयी. विकास को तो सिगरेट का धुंआ निगलना मुश्किल हो रहा था. सिर्फ बोला – अच्छी है.
सीमा ने कहा – कुछ छोटी है. फिर उसने अपनी चूत के बाल की तरफ इशारा किया और कहा – देख न बाल भी नहीं ढका रहें हैं.
विकास – ओह, तो क्या हो गया. यहाँ मेरे सिवा और कौन है? इसमें शर्म की क्या बात है. खैर ! मेरे शेविंग बॉक्स से रेजर ले कर नीचे वाले बाल बना लो.
सीमा – मुझे नही आते हैं शेविंग करना. मुझे डर लगता है.
विकास – इसमें डरने की क्या बात है?
सीमा – कहीं कट जाए तो?
विकास – देख सीमा, इसमें कुछ भी नहीं है. अच्छा , ला मै ही बना देता हूँ.
सीमा – हाँ, ठीक है.

यह कहानी भी पड़े  Yeh Choot Chodne Ke liye Bana hai

Pages: 1 2 3

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


पापा से सुहागरात मनाईमेंने अपने पति से चुदवाई कहानी याhttps://otkrivashki.ru/teatroporno/sushmita-bhabhi-ki-chudai-kahani-2/4/antarvasna tai giftपुच्चीतwidhva roopa mausi ko choda aur shadi kisexi storydig. tottysaxKhun vali chudaisar.padhani.ayi.teusan.ladhake.ki.sath.sex.keya.vedioहर रात नया लँड से चूत चुदाती हु मैसेक्सी गांड़ ने लिए भीड़ का मजाकमला माँ की चुदाइ Rajsharmabulu pikchar ki hindi kahanibahan ko biwi banakar suhagrat sex storyमोटा कला लंड गोरी चूत पहली बार सील टूटीsamuhik cudai kahani sasural me jethani ne karwaiचुदाइकहानि अँतरवाशनाआंटी ने माँ को चुदवायाma bate kisecy kshanikirayedarin sexstorirandi maa sex story sexbabadidi abhi ufff सेक्स स्टोरीCudayi walee romanteek sexy nonveg story hindee meआंटी के गानों की आंटी की चूतसेक्स सेठनी और पड़ोसी अंकल देसि बिबि बुर चुदाईsaxy kahaniya hindi me bahan ke bra se pocha pados ke ladke se pyas bujhaiघर मे लाग अपने परिबार मे चुदाई कय करते है storymummy Mein aadami wala kam karunga sex story Hindidady ne mujhe 11ench ke land se choda stori and stori .comसाली को चुपके से बोबे देखे Xxx storybahenkichudaikahaniले ले रण्डी साली कुत्ती रांड ले मेरा लंड तेरी मस्त चुत मेंमां बहेन बहु बुआ आन्टी दीदी भाभी ने सलवार खोलकर पेशाब टटी मुंह में करने की सेक्सी कहानियांtruck me nude khadi sex kahanibhai bhan hindi sax camplet khanyaशादीशुदा औरत की रिश्तों में चुदाई की कहानियाँसादी मै चोदने की कहानीयाँ2019आखीर मैने अपने डागी से चूदा लियामाँ कु मालिश कर के बुआ की चुदाई कियाammi ki chudai toor mexxx palai anty kahaneya hindeLund ka karkhana kahanimuslimsexykahanianManju Bhabhi ke sath suhagrat xstori www hindi sex stoyaraschudti ladkiyo ki khasiyat kya heSamuhik group sax pariwar in hindianterwaanaमाँ की चुत देखी पेशाब करते HINDI STOTRE PAHELIपेटिकोट बरा पर नहातै समय की फोटोदादा जी मेने तो केवल चोदोwww xxcom hindi bilu akele ghar main kooy aata hai sex karke jata haitaai ki chudaai ki kahaaniमेट्रो मे औरत को चोदेMain meri maa aur karim hindi sex storysixe कहानी perd mako cuodaखेत मे घमासान hindi sex storiesMom ke saath kitchan mein chudai ki part 1देवर भाभी की सेक्सी बाते हिंदी में लिखी हुई मजेदार सेक्सीbua ki ldki nancy ki chut chudai ki kahaniबाँस मँम की चुतShadi ke baad kali se phool bani aur chut fat gyiचुतसे विरियpaw roti jesi chut K chudai hinde stohttps://otkrivashki.ru/teatroporno/park-wali-bhabhi-ke-sath-car-sex/holi me gangbang chudai sex storiestrin me bhan k sath sexdidi chudi awara ladko seaबूर छोडो मेरा मुझे प्रेग्नेंट कर दो सेक्स स्टोरी हिंदीबहु की बुरा सास का भोसड की सेकसी कहानीxyzsixcvidometro me khade khade chudai kahaniसेकस कयाहैमुझे अपनी रण्डी बना में तेरी कुतियाछत पर चूदाईgodi me bitha kar land ragdaghabrati Hui ladki ki chudaixxx bfeola sal ki ldkiki istoriएक बार पूरा घुसा दे लौडा कमिने कहानीgf ko lode pe bithaya sex clipsnew Hindi utejak bur chudai story अन्तर्वासना बहन ने सिखाई बीबी की शील तोड़नेकुवारी लडकी चुत फाड डालीChut Ke photasikandar and lovely ki chudai xxx kahanioffice ka sacha pyar antarvasnawww.antravsana sex storyमैं दीवानी चुदाईhot heendew xxxxचुत चुदाई माँ का मुत पिकर कहानीmele me bahu chud gai kahani